Logic और भक्त

अरे भाई deductive logic भी तो कोई चीज़ होती है , कि नहीं?
अगर केह दिया गया है कि 'सूरज सर पर चमक रहा है', तो क्या *deductive logic* को इंकार करते हुए यह बहस करोगे कि 'किसने कहा कि दिन हो रहा है ??'

उसी तरह CAA कानून और उनके संशोधन के अभिप्राय, *deductive logic* सभी को समझ आ रहे हैं। बेकूफों जैसे बहस मत करते दिखो की किसने कहा कुछ वर्ग/धर्म के लोगों की नागरिकता ख़त्म होने का संकट है !
Deductive logic कुछ तो होती है। या कि पूरी दुनिया को ही ' *भक्त* ' *mental ability* समझते हो?

Comments

Popular posts from this blog

The Orals

Why say "No" to the demand for a Uniform Civil Code in India

About the psychological, cutural and the technological impacts of the music songs