महा धूर्त पॉलिटिशियन के लिए एक आईडिया

भाई ,
एक आईडिया आया है की कैसे कोई कुटिल , महा धूर्त पॉलिटिशियन जनता से आने वाले सुधार के प्रेशर को तोड़ सकता है ।
1) सबसे पहले तो बिगड़ी हुई एक व्यवस्था की नीव डालिए , उसमे सुधर की गुंजाइश की उम्मीद डलवा कर ।
२) अगर कोई आपत्ति भी ले की इस तंत्र में इतनी  गलतियाँ हैं , तब उनको यह झंसन दीजिये की देखो इसमें सुधार की गुंजाईश हैं । भविष्य में धीरे धीरे इसे हम दुर्सुत कर देंगे ।
३) फिर जब समयकाल में महंगाई इतनी बढ़ा दो की जनता को प्रशासनिक सुधार मांगने का समय ही न मिले । अगर कोई समय निकालने की कोशिश करे तो वह भूखा मर जाये , महंगाई से । वरना वह भ्रष्टाचार करने के लिए मजबूर हो जाये , और फिर जब खुद भी हाथ काले कर ले तब उसका कलेजा ही न बचे की वह सुधार यह इमानदारी के लिए कोई जंग लड़ सके ।
४) फिर धीरे धीरे लोगों को आईडिया दो की गलत को खत्म करने के लिए गलत का सहारा लेना ही पड़ता हैं । इस आईडिया पर कुछ और लोग कुछ न कुछ गलत करके अपना ज़मीर गिरवी रख देंगे और फिर ठन्डे पड़ जायेंगे ।
५) एक आध बार गलत तरीके से सही काम भी कर दिया करो , जिससे की बाकी बाख सिविल सोसाइटी भी टूट जाये की गलत तरीके से यदि सही काम करें तो गलत क्या है । इससे सही और गलत तय करने के मानदंड ही ख़त्म हो जायेंगे और सिविल सोसाइटी आपस में भी लड़ने लगेंगी ।
६) अब कुटिल , धूर्त पॉलिटिशियन की जीत सुनिश्चित है , उस देश में उसका ही सिक्का चला करेगा ।

Comments

Popular posts from this blog

The Orals

About the psychological, cutural and the technological impacts of the music songs

भारत वासियों में शाकाहारी होने के पीछे क्या कथा छिपी हुई है ?