क्या अंतर है एक फ़िल्म, एक news channel, एक documentary और एक गीत सुनने में

क्या अन्तर होता है दर्शक के मन पर डलते प्रभाव में,
 एक news,
 एक फिल्म, 
एक documentary , 
और एक गीत 

के माध्यम से बात पहुंचने में


न्यूज केवल घटनाक्रम की जानकारी देता है। कुछ अर्थ नहीं बताता, जैसे हमें क्या मिलने वाला है :- लाभ या हानि; सुख या दुख; तरक्की या पतन; इत्यादि

फिल्म से हमें juice और गूदा (Pulp) दोनो मिलता है। बस, ये अक्सर काल्पनिक होता है, यानी हमारी जबान पर स्वाद चढ़ाने के लिए निर्माता अक्सर थोड़ा अपना भी मसाला डाल देता है

Documentary को देखना ऐसे होती है जैसे कि कोई solved puzzle , वो जिसे कोई और पहले ही बूझ चुका है, और अब हमें अपना दिमाग नही चलाना है, केवल स्मृति कर लेना है !

गीत को सुनना, बात को अंदर अंतरात्मा तक पहुंचाने जैसा होता है। गीत में rythm होता है, जिससे बात हमारे मन और मस्तिष्क दोनो में पहुंचती है


फिल्म देखने और documentary देखने में अंतर को समझना जरूरी है। फिल्म एक unsolved puzzle होती है, जबकि documentary एक solved puzzle होती है। जाहिर है, अधिकांशतः तो किसी भी चेतनावान व्यक्ति को फिल्म ज्यादा appeal करती है, हालांकि कभी कभी कुछ जटिल, बहुत बड़े और complex विषयों में documentary अधिक प्रभाव जमा कर बात को समझा सकती है।


Comments

Popular posts from this blog

समालोचनात्मक चिंतन का आभाव --भारतीय शिक्षा पद्वात्ति की मुख्य गड़बड़

The Orals

What is the difference between Caste and Community