Friday, September 25, 2015

मीडिया का उत्तर प्रदेश की अखिलेश सरकार से बैर भाव

(व्यक्तव्य:  21 सेप्टेम्बर के समाचारों से)
इंग्लिश समाचार मीडिया प्रत्यक्ष तौर पर उत्तर प्रदेश की मुलायम -अखिलेश सरकार के पीछे पड़ा है। आज एक खबर, कि पिता मुलायम सिंह ने पुत्र और मुख्यमंत्री अखिलेश की राज्य में बिगड़ती कानून व्यवस्था के लिए आलोचना करी, को भी इंग्लिश मीडिया ने मरोड़ कर पेश किया की उत्तर प्रदेश् में इस कदर कुप्रशासन चल रहा है ।
   मगर यही मीडिया मध्यप्रदेश के झबुआ में हुआ बम धमाके में जिस कदर चुप है, और किसी भी कुप्रशासन की बात नहीं करता, यह प्रत्यक्ष हो गया है की मीडिया द्वारा "कुप्रशासन" शब्दावली अब उत्तर प्रदेश के अखिलेश सरकार के लिए "आरक्षित" कर दिया गया है।
   अब अगर उत्तर प्रदेश में भैस ने गोबर भी कर दिया तो उत्तर प्रदेश की अखिलेश सरकार का "कुप्रशासन" माना जायेगा, भले ही इंदौर में कोई रोड कांट्रेक्टर किसी गड्ढे में बेहोश पड़े व्यक्ति को रोड निर्माण कार्य के समय "अनजाने" में मिटटी से पाट कर उसकी जान ले ले। या फिर कि, बंगलोरे में कोई मोटर साईकिल पर सवार दंपत्ति में पत्नी किसी सड़क के गड्ढे में गिर कर जान गँवा बैठे, और इस हादसे की जिम्मेदारी उसके पति पर ही दर्ज़ कर दी जाये। याद रहे की भारतीय मीडिया के द्वारा "कुप्रशासन" तो बस उत्तर प्रदेश की अखिलेश सरकार पर ही माना जायेगा।