Friday, August 28, 2015

एक राष्ट्र का निर्माण कौन सी सोच पर होना चाहिए ?

How do you make India ?
A) By instilling a political apprehension in the minds of men that they should stand united else someone will conquer and rule over them ? (~The Military thesis of a Nation)
OR
B) Bringing a common standard of Justice -- a Code - where same standards of morality may be followed, same belief of ethics, a guaranteed linearity of compliance of the Justice code ? (~The civil thesis of a Nation)

Think about what is it that makes a Nation.

एक देश में से एक राष्ट्र का निर्माण कैसे करोगे आप ?
अ) सभी मानवों के मस्तिष्क में एक भय व्याप्त करके की अगर तुम सब विखंडित रहोगे तब कोई बाहरी मानव शक्ति तुम को पराजित करके तुम पर शासन करेगा ।(~ राष्ट्र निर्माण का सैनिकिय सिद्धांत)
या
ब) देश और समाज में एक सामान न्याय व्यवस्था स्थापित करके- एक विधान- जहाँ उच्च आचरण के मापदंड एक समान हों, जहाँ सभी मानव एक प्रकार की नैतिक मूल्यों में आस्था रखते हों, जहाँ यह प्रमाणित रहे की सभी समाधानों में एक ही विधान का पालन किया जायेगा। (~राष्ट्र निर्माण का नागरिक सिद्धांत)

सोचें की एक राष्ट्र का निर्माण वास्तव में किस प्रकार किया जाता है।

Thursday, August 27, 2015

why ancient hindus didn't create historical records

Hindus believe in माया , by which is meant a temporary cacophony of the world which keeps trying to interfere in the union of Soul with the God. So hindus never considered creating any monument or record for a 'temporary' thing...the entire History, as we believe it to be, now. Because such a record would strengthen the interfering force, the माया .
The result is that, in real scientific terms of today all our "history" is just a mythology, a figment of some one's imagination.

Saturday, August 22, 2015

Legal knowledge is not a must for conducting himself judiciously by a leader

A shipping company was looking to arrest revenue losses through, inter alia, controlling Overtime payments onboard ships. The labour union agreements between shipowners association and the sea crew Unions stipulated a "guaranteed" overtime of 109hours to each crew, and additional payments for every hour of overtime performed above the guaranteed hours at a rate mutually agreed.
     At the same time, the international labour related administration had desired and accepted the general social-economic necessity to reduce overtime payments and instead, to employ additional persons where such overtime payments were observed to be a regular feature. Yet, it validated the Natural Justice that wherever the overtime works shall have been performed, the payments will have to be necessarily made and in accordance with the agreement terms mentioned in the above paragraph.
      The shipping company sent out a circular onboard its fleet of ships that the shipboard management staff shall strive to reduce overtime payments loss to the company by having the jobs performed within 'guaranteed overtime' work schedule. In the circular, as a relaxation measure, the shipowner expressed their intentions that overtime payments upto 115 hours were admissible to them as optimal. (The circular in its details contained certain notes, the interpretation of which by the shipboard management staff is contentious and forms the core of this particular question.)
      It happened in a particular port-call of a fleet vessel that it saw a cargo operation of long number of days in one month. The mate prepared the overtime sheet at the end of the month which saw that the crew, as a matter of fact, did a 6-on-6-off watchkeeping, such that the accumulated overtime at the end of the month exceeded even the company stipulated relaxed figure of 115 hours.
      The master of the vessel asked the mate to correct this overtime sheet to bring it accordance with the company circular recently received, related with overtime reduction.

Question:
1) In what way can the mate bring correction in the overtime sheet he has prepared ?

Upon Mate's failure to follow the his instructions, the Master himself sent out the corrected OT Sheets for company's approval showing 115 hours of OT payment to each of the working crew. Later, the crew mustered before the master's cabin demanding their "rights". The master told them that he gave them OT as per company's instructions. He showed them the above circular, stating that his action was as per the company's instructions.
      Master proceeded to report the mate's failure to follow his orders to the office via telephone.

Question:
2) Comment on the above episode in light of the relevant labour laws, and the role of ship Master .
3) Is legality same as Judicious conduct by a leader ? Can a leader seek defence in his lack of Legal knowledge for failing to show right and judicious conduct ?

Questions on cultural dimensions of conduct ( you may skip this answering this portion, if it troubles you emotionally):
4)  What is you opinion, how the company should react to the overtime payments affair ? Master's report on mate ?
5) What will be the answer to the above question (4) with respect to various nationalities of crew you come across? What if the nationalities of Master and office staff is Indian ?

Tuesday, August 18, 2015

Nonfeasance, Misfeasance and Malfeasance

जनप्रसाशनिक कर्मचारियों(Public officials), अथवा किसी भी सेवादार या प्रोफेशनल के द्वारा अपने कर्तव्यों से सम्बंधित किये जा सकने वाले दोष पूर्ण आचरण(wrongful conducts) के तीन  प्रकार :

Nonfeasance (उच्चारण:नॉनफीसांस) : निष्आचरण (जब अपने कर्तव्यों का निर्वाह नहीं किये जाने से किसी व्यक्ति का या फिर सर्वजन की हानि हो जाये।)

Misfeasance (उच्चारण: मिस्फीसान्स) : कुआचरण (जब अपने कर्तव्यों का पर्याप्त निर्वाह नहीं किये जाने से किसी व्यक्ति का या फिर सर्वजन की हानि हो जाये।)

Malfeasance (उच्चारण: मॉलफीसान्स) : दुष्आचरण (जब अपने कर्तव्यों के विपरित कार्य किया हो जिससे की न किसी व्यक्ति का या फिर सर्वजन की हानि और तीव्र हो जाये।)

उधाहरण : एक सरकारी कर्मचारी, मानिए की नगरनिगम के सफाई विभाग से कोई व्यक्ति, जिसका उत्तरदयित्व शहर में सफाई सुनिश्चित करवाने का है, यदि वह कभी भी सफाई का कार्य करवाता ही नहीं है, तब जनहित विधानों की दृष्टि से उसने निष्आचरण(Nonfeasance) का अपराध किया है।
   यदि वह कर्मचारी सफाई तो करवाता है मगर सिर्फ मंत्रियों और उच्च पदअधिकायों के रिहायशी क्षेत्रों के आस पास की, तब वह कुआचरण(Misfeasance) का दोषी है।
   यदि वह सफाई करवाने के विपरीत ऐसा कुछ करता है की और अधिक गन्दगी हो जाये, तब वह दुष्आचरण (Malfeasance) का दोषी है।

Friday, August 14, 2015

क्या वाकई में अग्रेजों ने जाते जाते भारत पाकिस्तान बटवारे में divide and rule किया था ?

क्या वाकई में अग्रेजों ने जाते जाते भारत पाकिस्तान बटवारे में divide and rule किया  था ?

     मेरा ख्याल है की स्वतंत्रता के 67 सालों के दौरान हम भारतियों ने अपनी आत्ममोह मनोविकृति के चलते हमारे समाज में पहले से ही विधमान विभाजन के कणों को नकारने के लिए यह तर्क विक्सित कर लिया है की अंग्रेजों ने जाते जाते भी भारत-पाकिस्तान बंटवारा करके divide and rule को हमेशा के लिए यहाँ की भूमि में रोपित कर दिया है।
   अगर वाकई में यह बंटवारा अंग्रेजों की देन होता तब पिछले 67 सालों में किसी भी पश्चिमी ताकत ने इन दो देशों को नहीं रोक की वह वापस मिल कर एक न हो सकें।
   शायद हम सच का सामना करने से डरते है की बंटवारा अंग्रेजों की अंतिम सैनिकिय और कूटनैतिक रणनीति नहीं था, बल्कि खुद हमारे समाज और हमारी मनोविकृति की स्वतंत्रता के उपरांत की प्रथम देन था। समयकाल में हमारे समाज में विभाजन के अधार बड़ते-बड़ते जातिगत, क्षेत्रीय, भाषय्, लिंग, ग्रामीण-शहरी, आय वर्ग, और न जाने कितने हो गए हैं।
   दुखद यह है की भारतीय इतिहासकारों और समाजशास्त्रियों ने भी स्वतंत्र भारत की पीढ़ियों को सच को अपने अंदर झाँक कर सामना करने के लिए तैयार नहीं होने दिया है। सच का प्रतिबिम्ब बहाय करके पीढ़ी दर पीढ़ी हमें बुद्धि और अन्तरात्म विहीन बनाया गया है की हम सदैव के लिए नकारते रहे की कमी असल में हम में ही है।

Why reservation policy maybe be doing more good to India than laurels brought on our nation by achievements of a handful Indians ?

Why reservation policy maybe be doing more good to India than laurels brought on our nation by achievements of a handful Indians ?

If you really want to be a modern age reformer who wants to rid his society of Caste prejudices, you will have to begin by making admission of the logical consistency of the claims raised by Dr BR Ambedkar and likes about those beliefs of Hindu faith which in our centuries old history had lead to the social discrimination.
    Would you admit that Forbidding of eating Cow flesh, which is otherwise an innocuous Hindu way of showing reverence to nature and animals having association with our gods, yielded the social impact of Caste based discrimination towards those craftsmen who worked with the hides of dead cow ?
    Would you admit that everytime you project the personal achievements of a person to be achievement of his high social caste against the odds of modern Reservation policy, you reactively come to denial of achievement of those lower social caste achievers who have uplited hopes of their villages and their entire communities by way of inspiring them to study and learn.
   The game of team work does not fructify with one player having performed excellent, but by every team member performing atleast optimal. Thus,  for a better India, what we need is NOT rare achievers of the likes of Sundar Pichhai, BUT a large population of dalits and other deserters making return to the schools, towards studies and learning due to their hopes of securing fruits from the efforts in this unfriendly field.

Monday, August 10, 2015

भाजपा के रामराज्य का रामबाण

भाजपा की राजनीति और ढोंगी बाबाओं के बीच का nexus

गौर करने वाली बात यह है की यह सब पाखंडी और ढोंगी बाबा भारतीय जनता पार्टी के समर्थक है। यह वही लोग है जो की कांग्रेस और दूसरी पार्टियों को Sickular बुलाते हैं, और वास्तविक secularism से जनता को भ्रमित करते हैं। वास्तविक secularism का सम्बन्ध ऐसे ढोंगपने से मानव समाज की मुक्ति का है। england में church of england की शुरुआत secularism के प्रभाव में ही हुई थी। वह लोग Vatican Pope के अनुयायी नहीं थे। सच यह है कि secularism का विचार democracy का इतना सलंग्न है की वास्तविक डेमोक्रेसी बिना secularism के पनप ही नहीं सकती है।
   भारत में कांग्रेस पार्टी ने सेकुलरिज्म के वास्तविक विचार को तोड़ मरोड़ कर इस लिए अपनाया था की अल्पसंख्यक तुष्टिकरण करा जा सके। कांग्रेस के इस हरकत के विरोधियों ने इस प्रकार के सेकुलरिज्म को ही व्यंग्य में Sickularism नामकरण कर दिया।
   आगे का सच यह है की भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस के sickularism का विरोध तो किया है मगर फिर वास्तविक secularism को भी नष्ट हो जाने दिया है जिसके फल स्वरुप आज यह सब ढोंगी और पाखंडी लोग लोगों के दिलो दिमाग पर बिना रोक टोक के छाये हुए हैं।भाजपा के इसी भ्रमकारी आचरण के चलते यह सब पाखंडियों की आप भाजपा का समर्थक पाएंगे।
   यह सब पाखंडी अवैज्ञानिक और अज्ञानता के विचारों के पालक है। मगर इसके दिलो दिमाग में यह समाया हुआ है की वह ही असल वैज्ञानिक सोच और अविष्कारों के जनक है, जिसको अंग्रेज़ो की लायी गयी मैकौले की शिक्षा पद्धति ने साज़िश के तहत दबा दिया है। आप गौर करे की भाजपा और आरएसएस की विचार धारा में pythogoras theorem, वायुयान इत्यादि को प्राचीन भारतीय वैदिक उत्त्पति का माना गया है, जिस गुप्त ज्ञानों को पश्चिमी लोगो यहाँ से चुरा लिया है।
    इस प्रकार की भ्रमकारी ज्ञान का सीधा लाभ इस ढोंगी बाबाओं को अपनी दुकान चलाने में मिलता है। लोगों की आस्था वेद, योग और आयुर्वेद जैसी प्राचीन ज्ञान और पद्धतियों में बढ़ने का यह व्यापारिक और राजनैतिक लाभ है। जबकि वास्तविकता यह है की सटीकता से किसी जानकारी का उत्पत्ति का वैदिक कालीन, उपनिषद , पुराण, आयुर्वेद यह ऋषि मुनि काल के योग से जुड़े होना का कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है।
    एक तथयिक सत्य जो की पुरातत्वकर्ता बताते है यह है की प्राचीन वैदिक ज्ञान श्रुति पर प्रसारित होता था। श्रुति यानी सुन कर और स्मरण करके रखना। इसके चलते पुरतवकर्ताओं ने पाया की भारतीय ज्ञान समयकाल में प्रवाहित ज्ञान है। यद्यपि सामूहिक रूप से इस समूचे ज्ञान को आज भी वैदिक, या आयुर्वेदिक या उपनिषदिय पुकारा जाता है, मगर अब यह सटीकता से बता सकना करीब करीब असंभव है की कौन सा ज्ञान किस काल और युग में उत्पत्ति में आया था। पहले ऋग वेद हुआ जिसमे कुछ संख्या के श्लोक माने गए। समय काल में बाकी तीन वेद ग्रन्थ उत्पति में आये और ऋग् वेद के श्लोकों की संख्या भी बढ़ गयी। ठीक ऐसा ही भगवद् गीता से साथ भी घटित हुआ। रामायण के कई सारे संस्करण उपलब्ध है और इसमें से कई सरे संस्करण प्राचीन वैदिक काल का होने का दावा करते हैं। पुरतत्वकर्ताओं में भी मत भिन्नता है इन दावों की प्रमाणिकता को ले कर।
    वर्तमान के ढोंगी बाबाओं को वैदिक काल सम्बंधित इस असटीकता का लाभ मिलता है। लोगों में वेदों के प्रति आस्था असीम है मगर सटीक जानकारी नहीं है। कुछ कुछ तो सब कोई जानता है, मगर सटीकता से किसी को भी कुछ पता नहीं है। बस, ढोंग की दूकान खोलने के लिए एकदम उपयुक्त माहौल तैयार है। ढोंगी अपने मन मर्ज़ी के दावे ठोक देते है, योग , आयुर्वेद के नाम पर। एड्स और कैंसर का इलाज़ योग और आयुर्वेद से करवा दिया जाता है।
    तब प्रश्न है की कौन और क्या सामाजिक, राजनैतिक और व्यापारिक लाभ कमाया जा रहा है वर्तमान के भारतीय समाज में वैदिक, योग और आयुर्वेद के नाम पर समाज को वापस अंधकार युग में प्रेषित करके ?
   इस प्रश्न का उत्तर हमें भारतीय जनता पार्टी और इन सब ढोंगी , पाखंडी बाबाओं के बीच का गठजोड़ समझ आने पर स्वयं प्राप्त हो जाता है।

Saturday, August 08, 2015

वो भुला दिए गए हिंदुत्व मूल्य...

रावण को मारने के बाद भी धर्म ने गुहार लगायी थी। ब्राह्मणों के एक दल का कहना था की रावण ब्राह्मण था, शिव भक्त था, अच्छा शासक था, बस थोडा अभिमानी हो गया था। इसलिए वह रामचंद्र जी से प्रायश्चित करने को कह रहे थे। शायद वही दल बाद में सर्यूपारिणी ब्राह्मण बना, जिसमे की "बाजपेयी" उपनाम भी आता है। याद रहे की अटल बिहारी वाजपेयी ने ही टिपण्णी दी थी की राजधर्म नहीं निभाया। यही मंथन और शास्त्रार्थ ही हिन्दू धर्म था जिसके लिए ब्राह्मणों के आगे क्षत्रियों से शूद्रों को नतमस्तक होना पड़ता है। वरना फिर तो कृष्णा ने द्रोणाचार्य से लेकर कृपाचार्य का भी संहार करने की शिक्षा द्वापर युग में ही दे दी थी। यह तो कलयुग है।

×××××××××××××××××××××××××
पश्चाताप और प्रायश्चित ही वास्तविक वैदिक संस्कृति है। महान वैदिक विचार जिसमे की महाभारत युद्ध के समय भगवद् गीता , और सम्राट अशोक का हृदय परिवर्तन , यह दोनों ही प्रायश्चित की अग्नि से ही निकले थे। प्रायश्चित और उसके गुणों की पहचान हिन्दू धर्म का मूल है।

Entries related with Yakoob Memon's hanging sentence

Dtd 27th July 2015
Judiciary doesn't award capital punishment for sins. It does so when a person, for his deeds, is seen as a threat to society; when a person cannot be reformed; or his deeds need to be checked by  strong deterrence.
   But what happens when someone has adopted reformation due to his own inner calling? Do we still stay put at punishing him for a maniac reasoning of "sending a strong message"?  Is his reformation, and the judiciary's mercy in itself no message to those who adopt violent means to achieve their goals ?
   We are a free democracy. We resist violence, not the opinion however divisive the opinion may be. Therefore someone holding a thought of separatism is not a threat to our harmonious existence, only the violence is. Once we put out faith in someone of having reformed ,sending him to gallows only for a cause of sending a strong message to an unknown enemy is nothing short of a mania, a mental inadequacy
××××××××××××××××××××××////×××××××

Dtd 29th July 2015
While arguments in favour of Yakub's hanging punishment has been around "sending a strong message", the ground truth has actually stood facing the other direction. India hardly uses death punishment, (actual execution being just 3 in last 25~30 years). And we as a nation have never made cry about whom the presidential pardons have been bestowed and how recklessly, while many are lobbying behind hanging one guy who shows the best signs of conscientious surrenderer. Observable Truth, then, is that we cannot make our country crime free in the manner that Arabian countries do by a public decapitation method; nor do we deserve to be a crime free state when presidential pardon to the most brutal criminals of humanity can pass the public scrutiny but a conscientious surrenderer has no room for mercy.
×××××××××××××××××××××××××××××××××

Dtd 30th July 2015
गुप्तचर संस्था, raw, के पूर्व प्रमुख (स्वर्गीय) श्री बी रामन् ने भी एक लेख में याकूब मेमन को मृत्यु दंड नहीं दिए जाने की हिमायत करी थी। उस दौर में वही raw की तरफ से याकूब के समर्पण की कार्यवाही को देख रहे थे। तो एक तरफ जहाँ सीबीआई ने याकूब को बहला-फुसला कर पकड़ लाने का दावा किया था, वही खुद raw के प्रमुख इसके विरुद्ध थे। मुझे ज्ञात नहीं है की न्यायलय में इन दोनों विपरीत दावों में कौन सा विजयी हुआ और किन तर्कों, प्रमाणों के आधार पर। कभी कभी मुझे याकूब के अभिवक्ताओं की सक्षमता पर संदेह होता है की उन्होंने इस तथ्य को न्यायलय में कैसे प्रस्तुत करके असफल हो जाने दिया। समयकाल में याकूब का जेल में व्यवहार आत्म-समर्पण के उसके दावे को पुख्ता करता रहा था।

   बरहाल, क्या सन्देश दिया है आज़ादी के बाद स्वतंत्र भारत की सरकारों ने। यही की इस देश में कुछ भी चलता है -- चाहे सुरेन्द्र कोली बन कर छोटे बच्चों को मार कर खा लो, कितनों ही मनोदोष अपराध कर लो; चाहे किसी नाबालिग बच्ची से दुराचार और हत्या करके जेल में जाओं, फिर वहां से मृत्यु दंड पर माफ़ी लेकर रिहा हो कर वापस आओ, और फिर से उस पीड़ित के परिवार को मार कर दुबारा मृत्यु दंड पर राष्ट्रपति क्षमा प्राप्त कर लो,
   -- इस देश में यह सब चलेगा,
मगर जो नहीं चलेगा वह होगा एक अंतःकरण आत्म-समर्पण। अगर आप कोई अपराध करके विदेश निकल लेते हो तो भी चलेगा क्योंकि तब हमारी पुलिस आपका बाल भी बांका नहीं कर सकती, मगर यदि आप "भेजे की सुन कर" जागृत अंतःकरण से विवश हो कर आत्म-समर्पण करोगे तब आपको मृत्यु दंड दिया जायेगा।
××××××××××××××××××××××××××××××××××

Dtd 31st July 2015
The "thulla" is a real "chu*ya", you know. I wish he only sit in a law studies classroom of first semester where Contract Law is taught regarding how it is the intentions which become the real basis for execution of a contract and NOT NECESSARILY the explicit , written or verbal, expression.
   There is a case law of Railways versus one Window Frame maker company where the judgement was that deeds of the railways indicated acceptance of contract although the railways later refused to ceding that contract.
    Thus, the intentions of Yakoob are well clear, admitted by the Security personnel , Mr B Raman, himself, and it only becomes a matter of curiosity as to how our investigative agency, which duly have an upper hand because the case was categorized under "security of the country" group, should be suspected of manipulating the intentions, rather keen to show it as their successful task.
   Open hearing, which is due in all other trials , is  absent within the national security classification ( it was a TADA lawsuit) . Yakoob,in Apr 2014 asked for a "public hearing", while he might have been denied   his claims of his true intentions.
   The truth is eventually revealed by work of time than anything else. That Yakoob's claim of having an intention to surrendered is proven by the Judgement of the Time itself when his good conduct in the prison is reported in the media. He is said to have suffered depression and schizophrenia , and was having hallucinations ( the deeper details are kept under wraps by those same Investigative agencies, who have hardly allowed releasing even a single photographs of him in all these 22 years while he was in prison. Infact what we seen in the article above is itself a very old one). These factual events prove the claims with regard to Yakoob's own intention, while the investigative agencies may work on private vested interest to demonstrate a minimal success all through, while we know that they have other failed to even pick smell of all other perpetrators.
   The "thulla" puts the secondary argument about his difficulty to handle the dreaded criminal. Instead of explaining the mistake and fallacyies in his argument, i will cut it short by asking him if he proposes to promptly execute the culprits as soon as they are caught otherwise they are killed by the perpetrators like in case of Tulsiram Prajapati, and Shahabuddin Sheikh . The "thulla" , i am sure, will quickly deny the claims of fake encounter which have let the half justices become a norm in Indian Judiciary as that serves the political purposes. And it is through these political tools that he gets to enjoy the gains of his "thulla" status.
××××××××××××××××××××××××××××××

Dtd 01st Aug
Media can at the most make create a public pressure by raising debate around any matter. That is what it is already doing, while the anti-Yakoob pressure group is accusing the TV channels of trying to glorify Yakoob by excessively discussing Yakoob's hanging sentence. What the TV debates achieve by doing a Debate is that the Public Interest is awakened, and that Interest leads to pressuring the authorities to act fair lest they are caught by the public doing a wrong or illegal act.
  Thankfully, TV debates have succeeded to that degree because that is why me and you are discussing it today, and I feel after picking the aspects of the case that it is legitimate to accuse the Investigative agency and the Judicial process of a wrongdoing in not mitigating his death sentence on the grounds that he was in atonement mental state.
×××××××××××××××××××

Dtd 02nd Aug
तो संभवतः समस्या यही से प्रकट हुयी लगती है। याकूब की मंशा समर्पण की रही होगी परंतु वह तकनीकी रूप में कभी नहीं घटी। raw के प्रमुख, बी रमन, के लेख से यही झलक मिलती है की याकूब के केस में सीबीआई ने mitigating circumatances (अपराध विलेय परिस्थितियों) को न्यायलय के समक्ष प्रस्तुत नहीं किया था। mitigating circumstances से यह तो नहीं होता की अपराध क्षमा हो जाता, परंतु मृत्यु दंड से कम करके कारावास में तब्दील हो जाता। इसमें सभी का लाभ होता। सबको पता है की भारतीय जाँच एजेंसी कोई अधिक सक्षम और योग्य संस्था नहीं है। यही अपने ही देश में 26 नवम्बर के मुम्बई हमलों में शामिल होने के आरोपित एक आतंकवादी जो की रामपुर सैनिक छावनी के धमाकों में भी शामिल था, उसे 26/11हमलों के जज टहिल्यानी को बरी करना पड़ा क्योंकि पुलिस ने सबूतों में उसकी जेब से प्राप्त जो नक्शा प्रस्तुत किया था उस पर एक भी सिलवट नहीं थी !! तो हमारी पुलिस की वास्तविक योग्यता ऐसी है, जो की वरना खुद को ठुल्ला कहे जाने पर बुरा मानते है -- वह भी सिर्फ तब जब एक कानून पसंद ईमानदार आम आदमी उनको ठुल्ला बुला देता है तब। वरना बाकी के भृष्ट नेताओं के तलवे चाटना ही इनकी वास्तविक योग्यता है। यूपी में खुद अपने आई-जी अमिताभ ठाकुर के खिलाफ खौफ खा कर झूटी बलात्कार की fir दर्ज कर लेते है , और दिल्ली में शरीफ आम आदमी के मुख्यमंत्री को आँख दिखाते हैं। कर्नाटक में अपने ही ias अधिकारी, डीके रवि,  की हत्या के मामले में सबूतों को नष्ट हो जाने देते हैं।
      पुलिस और सीबीआई की आज तक की क़ाबलियत इतनी नहीं है की एक शातिर अपराधी का बाल बँकां कर सके। याकूब मेमन मामले में अपने ही ज़मीर से मूर्छित हुए आदमखोर शेर के ऊपर खड़े हो कर ऐसे तस्वीर खिंचवा रहे थे की जैसे मानों उन्होंने ही शिकार किया था। उन्होंने शेर को चिकिसीय सुविधा पहुचने में बांधा बनाये रखी की कही उनकी पोल न खुल जाये की आदमखोर शेर खुद से मूर्छित हुआ था, शिकारी के हाथों से नहीं।
   वैसे अपराध अध्ययन के दृष्टिकोण से भी यह मामला विपरीत सन्देश देगा। की यहाँ इस देश में स्वेच्छित आत्म-समर्पण से शायद कोई लाभ नहीं मिलेगा, इसलिए विदेश में रह कर और अधिक अपराधों को फल खाने में ही भलाई होगी।

×××××××××××××××××××××××××
Dtd 02 Aug 2015
You see, the role of investigation agency to the process of Justice is very critical.
It is here that the court debate must have centered itself. And since a formal surrender had not happened, the investigation agency gained a upper hand into an already edged matter since the hearing were mostly closed door.
  The court has no room to express its own views on any matter while it is in a debate. The court simply "turns down" or "upholds" the arguments of evidence presented before it, which we layman of the Judicial process call as "कोर्ट सहमत नहीं हुआ".
   Therefore if the evidence of his surrender would have occured by any chance, could would have become deprived of its choice to be "असहमत"  with Yakoob's claim.
   The question is, did the investigation agency deny him the benefits of his pious and clean intentions merely because a legal incidence of those intentions had not occured. For a reminder, under Contract Law, the court allows Intentions even if not EXPRESSLY conveyed to become the basis of acceptance of a Contract.
The same cardinal principle should have worked over here too. But since all the hearing was closed door, the Political operators of the Investigation agency would work their way to ply with the eventual justice. This has what has apparently happened. The fact of Intention of Yakoob Memon to voluntarily surrender proven subsequently by the passage of time where his good conduct was commended in the media, most likely by the TADA special judge PD Koda, and his co-operation with the investigation agency. He was abandoned by his family for having ceded to the voice of conscience. Which is another notable sign of what his intentions were. His community gathered in thousands to pay tributes to his sacrifice for them, which may be deemed appropriate to any community having undergone such marks of suppression as they claim for. Remember again, the Hindu community ofteb defends the Gujrat Riots against the burns of Godhara, on the same line of argument.

Yet another Heterogeneous Justice of the BJP and ModiBhakts

Heterogeneous standards of Justice

सत्यम् ब्रूयात् VERSUS निंदक नियारे राखिये

In my opinion, the sanskrit quote given below has caused a great internal damage to values of vedic religion. Sycreticism and Dichotomy has become an idiosyncratic feature of Hinduism , something which the BJP and the RSS seem to be excelling in. -
सत्यम ब्रूयात् प्रियम् ब्रूयात्, न ब्रूयात् सत्यम अप्रियम् |
प्रियम् च नानृताम्ब्रुयात्, एष: धर्म सनातनः ||
(meaning)
सत्य बोलो , प्रिय बोलो |
अप्रिय मत बोलो, अगर वह सत्य हो तो भी | प्रिय और सत्य बोलना ही सनातन धर्म है

I keep wondering that if the truth be spoken at the mercy of the listener's pleasure and convenience, then, of what value is that religion which yet teaches us the motto of सत्यम शिवम् सुंदरम ?

×××××××××××××××××××××××++++++++++++++++++++++++++××××××××

Whereas a sanskrit shlok सत्यम ब्रूयात् teaches us to not to speak too much critical of someone, the below kabir das ji's doha teaches us to learn to tolerate even the harshest of our critic.

Choice is yours.

कबीर के दोहे:

निंदक नियरे राखिए, ऑंगन कुटी छवाय।
बिन पानी, साबुन बिना, निर्मल करे सुभाय।।

अर्थ:
कबीर दास जी कहते हैं कि व्यक्ति को सदा चापलूसों से दूरी और अपनी निंदा करने वालों को अपने पास ही रखना चाहिए, क्यूंकि निंदा सुन कर ही हमारे अन्दर स्वयं को निर्मल करने का विचार आसकता है और यह निर्मलता पाने के लिए साबुन और पानी कि कोई आवश्यकता नहीं होती है ।

पाखंडियों के हाथ में हिंदुत्व रह गया...

उठ-उठ के मस्जिदों से नमाज़ी चले गए
दहशतगरों के हाथ में इस्लाम रह गया

सुनने में भले ही यह कलाम इस्लाम धर्म से ताल्लुक रखता हुआ लगे, मगर कटु सत्य यह है की आज हिन्दू धर्म की हालात भी ऐसे ही हैं। न जाने हिन्दू और वैदिक धर्म के किस संस्करण को समाज में प्रसारित कर दिया गया है की आज क्षमा, प्रायश्चित , संवेदना, दया, सभ्यता, शिष्ट व्यवहार, इत्यादि के लिए इंसानी मस्तिष्क में कोई कोना नहीं बचा है।
   एक से एक पाखंडी लोग महात्मा और साधू बने हुए पकड़े जा रहे है, "wrong number", जो मानवता के बहोत बड़ी आबादी की सोच पर कब्ज़ा करके सरे अधर्मी और पापी क्रियाकर्मों को अंजाम दे रहे हैं। आसाराम, बाबा रामपाल, स्वामी नित्यानंद, निर्मल बाबा, सत्यसाई , और अभी एक दम नयी, राधे माँ। शायद अभी भी सेकड़ों ऐसे नाम होंगे जिन्हें इस सूची में भुला दिया हो।
   धर्म पाखंडियों के हाथो में चला गया है। वह जो की खुद योग और आयुर्वेद के नाम पर करोड़ों करोड़ का औद्योगिक साम्राज्य बिछाये हुए हैं। वह सामाजिक नैतिकता को धन की बिसात पर पलट रहे हैं। समाज को मूर्खता, अभद्रता, असहनशीलता जैसे दुर्व्यवहारों से व्याप्त कर रहे हैं। ऐसे ही लोग हिंदुत्व के नाम पर राजनैतिक समीकरणों को सीधे सीधे प्रभावित करने में रूचि दिखा रहे हैं। दुर्भाग्य है की भाजपा और आरएसएस जैसी स्वयं-घोषित हिन्दू संस्थाओं के समर्थक है यह लोग और आज देश के संवैधानिक संस्थाओं पर इनका शासन चल रहा है।

Friday, August 07, 2015

जस्टिस मार्कंडेय काट्जू की वैज्ञानिक विश्लेषण की प्रतिभा और bold old man की भूमिका

जस्टिस मार्कंडेय काट्जू हमारे देश के नए कटू-सत्य वाचक की भूमिका निभा रहे हैं।
  जस्टिस काट्जू ने हाल के दिनों में अपनी फेसबुक पोस्ट के द्वारा न सिर्फ वर्तमान काल की राजनैतिक हस्तियों को आढ़े हाथों लिया है, बल्कि अतीत और स्वतंत्रता काल की महान विभूतियों, जिनमे की गांधी जी, सुभाष बोस, रबिन्द्र नाथ ठाकुर, और बाल गंगाधर तिलक सम्मलित हैं, के सन्दर्भ में भी अनकहे कटु विश्लेषण प्रस्तुत किये हैं। बेशक अपनी आस्था के स्वाधिकार में आप जस्टिस काट्जू के विचारों से सहमत या असहमत होना चाहेंगे। मगर फिर भी तर्क की कसौटी पर जस्टिस काटजू के ज्ञान को, तथयिक जानकारियों के संग्रह को, और वैज्ञानिक मानसिकता से परख करने की पद्धति को पदक अर्पण करना ही पड़ेगा।
    वैज्ञानिक अन्वेषण की प्रक्रिया को हम एक तरह से एक किस्म की मानसिकता मान सकते हैं। जिन व्यक्तियों में वैज्ञानिक अन्वेषण और विश्लेषण का व्यवहार विक्सित हो जाता है वह जीवन के हर क्षेत्र में इसी वैज्ञानिक विश्लेषण का मुजाहिरा करते हैं।
  वर्तमान शिक्षा व्यवस्था में छात्रों को वैज्ञानिक विश्लेषण के प्रति जागरूकता तो प्रदान करी जाती है मगर पर्याप्त प्रशिक्षण नहीं मिल पाता है। गणित अथवा कंप्यूटर विज्ञान के छात्र logic तथा algorithm जैसे विषयों को पढने से काफी हद तक एक वैज्ञानिक विश्लेषण के स्पष्ट चिंतन व्यवहार को विक्सित करते है। मगर अपने पर्यावरण में वह फिर भी सत्य अनुसन्धान के व्यवहार को निभाने से संकोचते हैं। वह सामाजिक अस्वीकारिता के भय से पीड़ित रहते है की कहीं अत्यधिक कटु-सत्य अन्वेषण उनको असामाजिक हदों की अस्वीकारिता तक ले गया तब वह अलग-थलग, और बहिष्कृत हो जायेंगे।
   वैज्ञानिक अन्वेषण का व्यवहार प्रशिक्षित करने का दूसरा कार्य क्षेत्र विधि और न्याय अध्ययन हैं। विधि-विधान क्षेत्र में तथ्यों और प्रमाणों का विश्लेषण वैज्ञानिक तर्कों पर परख कर किया जाता है। इसलिए अक्सर करके उच्च श्रेणि के अभिवक्ताओं और न्यायधीशों में वैज्ञानिक आचरण का पर्याप्त प्रशिक्षण प्राप्त कर लेना स्वाभाविक बन जाता है। संभव है की जस्टिस काट्जू भी कुछ इसी प्रकार का जीवन यापन करके वैज्ञानिक चिंतन के व्यवहार में कुशल बन गए होंगे, और जो की सेवानिवृति के बाद भी उसके संग चल रहा है।
   जस्टिस काटजू सामाजिक राजनैतिक विषयों में इन दिनों bold old man की भूमिका अदा कर रहे हैं। उन्नीस सौ अस्सी के काल में फ़िल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन जिस प्रकार की चरित्र की भूमिका निभाते थे, समय काल में फ़िल्म आलोचकों ने उसको एक संग्रह में angry young man का नाम दिया था। आज जस्टिस काटजू वास्तविक जीवन में bold old man की भूमिका में दिख रहे है, वह भी हमारे इर्द गिर्द हम सबको स्पर्श करने वाले विषयों में।
    जस्टिस काट्जू उम्र के जिस पड़ाव पर है वह अपने विचारों की प्रस्तुत करने में उसके राजनैतिक और सामाजिक प्रभावों की चिंता करते बिलकुल नहीं दिखते हैं। वह असामाजिक होने के भय, अथवा सामाजिक बहिष्कृत हो जाने के भय से परे जा कर कटु सत्य विचार को सब के समक्ष लिख देते हैं। 
   एक साधारण दृष्टिकोण से कभी कभी ऐसा लगता है की जस्टिस काट्जू मन-मस्तिष्क से स्वस्थ नहीं है क्योंकि वह एक कतार में सभी नामी गिनामि विभूतियों की आलोचना करते दिखते हैं। मगर तब शायद हम जीवन के सत्य को भूल जाते है कि एक perfect व्यक्ति का निर्माण तो शायद कुदरत ने भी आज तक नहीं किया है। कही न कही एक कमी हम सभी में है। हम साधारण मानव अपने भावुक चिंतन के चलते अक्सर अपने प्रिय विभूति में उन कमियों को अनदेखा कर देते है जो की जस्टिस काट्जू अपने प्रशिक्षित वैज्ञानिक चिंतन के चलते आभास कर लेते हैं। ऐसा नहीं है की वह जो कहते है वह सब एक प्रमाणित तथा सर्वमान्य न्याय हो, मगर संभावनाओं की तर्क कसौटी पर उसके विचारों को गलत साबित कर सकना आसान नहीं है।