The thoery of Sustenance of Political Party in India, and its predictable outcome

The fall of Modi's regime sooner than later is predictable.
आखिर कितने दिनों तक सिर्फ मोदी नाम को महिममंडल करके भाजपाई सत्ता में रह पाएंगे??
कभी न कभी तो जनता को अपने सु-शाशन के प्रमाण देने ही पड़ेंगे।
तथ्यिक सत्य यह है कि विकास के काम 'रोज़मर्रा -टाइप' कार्य होते हैं जो की सत्ता में कोई भी हो-चलते ही रहते हैं। इसलिय सु-शासन 'विकास के कार्य' की उपलब्धियों से विकास के पापा गिना नहीं पाएंगे। भाजपा के बाकी निवार्चित नेता कब तक सिर्फ मोदी नाम पर वोट ले सकेंगे?

भारतीय चुनाव व्यवस्था का सत्य वचन(theorem) शायद यह है कि जो पार्टी जितनी तेजी से सिर्फ एक व्यक्ति के महिममंडल से ऊपर आती है, वह उतनी जल्दी ओझल भी हो जाती है। क्योंकि महिमंडल को सिद्ध भी करना पड़ता है। शायद इसलिए राजनीतिक पार्टियाँ अतीत के किसी दिवंगत नेता के नाम का प्रयोग करती हैं। अतीत का दिवंगत नेता पहले से ही सिद्ध होता है!

कब तक भाजपाई नेता प्रादेशिक चुनावों में मोदी की माला से काम चलाएंगे? कब तक दंगे करवाते रहेंगे वोट बटोरने के लिए?

फिर यदि एक बार इनकी हार का सिलसिला निकल पडा तब यह मोदी से विद्रोह करेंगे। या तो मोदी जी सु-शाशन को यथाशब्द प्रमाणित करें, वरना समझौतों वाला "सुशासन" तो कोंग्रेस देने में माहिर है-- वह परिवार की आस्था पर चलता है-किसी एक व्यक्ति की आस्था पर नहीं।
  आम आदमी पार्टी आस्था के बाहर के वास्तविक सुशासन के लिए आवश्यक आतंरिक रोकथाम पर चलती है। इसलिए इसमें नेता को उभर के आगे आने के लिए आतंरिक परीक्षाओं के साथ-साथ जन-व्यापक शत्रुभाव -दोनों -से गुज़ारना होगा।

तो भारतीय चुनाव पटल का दूसरा सत्यवचन (theorem) यह है की वैसे तो कोई भी पार्टी या तो आस्था के आधार पर कायम होगी, अन्यथा आतंरिक शक्ति-नियंत्रण पर--**मगर**-- भारत में आस्था ही चलती है, आतंरिक शक्ति-संतुलन एवं नियंत्रण नहीं।

Theorem 1 of Indian Political Parties Sustenance::
(Political parties can sustain either by allegiance to someone or some family, OR by Internal power checks-and-balance. India being a low education environment, the sustenance of a political party is only by way of bearing allegiance.)

The observable truth of the present status of political parties is that Congress ,having a family-centered allegiance , is more SUSTAINABLE than the BJP. Hence , the Congress will survive more than the BJP.
Either the BJP should come out of the allegiance culture of sustenance completely, OR it must create a long-term centre of allegiance for itself.)
Indeed the caste politics is a menifestation of the Allegiance method of sustenance of a political party, which is the only sustenance method India practises. The AAP party type Sustenance Culture for a Political Party is still in experimental stage.

Thus, Congress is more stable, by virtue of being sustainable, THAN the BJP.

We should expect their comeback, lest Modi sustains the magic by a true ground delivery.

Popular posts from this blog

BODMAS Rule सैद्धांतिक दृष्टि से क्या है?

The STCW 2010 Manila (Scam) Convention

Difference between Discretion and Decision making