निमय का अर्थ

किसी ने हमसे पूछा की आपके पुत्र का क्या नाम है ।
 हमने बता दिया, "निमए "।
 उसने पुछा की इसका अर्थ क्या होता है ? हमने बताया की निमए भगवन चैतन्य महाप्रभु को बुलाया जाता है ।
 वह व्यक्ति संतुष्ट हो गया । क्योंकि कोई अन्य प्रश्न नहीं किया उसने ।

 बाद में हम सोचने लगे की क्या हमारा उत्तर समालोचनात्मक चिंतन की दृष्टि से उचित था । क्या किसी शब्द का अर्थ किसी व्यक्ति का नाम होता है ? "
          "मैं" का एक भाव अर्थ होता है अहम् । वैसे "मैं" एक सर्वनाम है जिसके माध्यम से स्वयं से सम्बंधित विषय का वर्णन किया जाता है । मगर दर्शन और मनोविज्ञान में इसे अहम् का भी प्रतीक मानते है । जो लोग "मैं" का अत्यअधिक प्रयोग करते हैं वह मुखतः स्वयं में केन्द्रित होते है और अपनी संतुष्टि में सुख अनुभूति लेते हैं ।
      निमय का एक संभावित अर्थ हैं (मेरे समझ में)- वह जिसने यह "मैं" को त्याग दिया हो , अर्थात जो जागृत हो, जो चैतन्य हो, जो अपने आस पास की घटनाओ से भी सुख और दुःख को अनुभुतित कर सके , सिर्फ स्वयं तक न केन्द्रित हो ।

निमए का अर्थ 'जागृत' है| चैतन्य महाप्रभु तो मात्र एक उपमा हैं 'निमए' के नाम का एक उदाहरण के लिए ।

Popular posts from this blog

BODMAS Rule सैद्धांतिक दृष्टि से क्या है?

The STCW 2010 Manila (Scam) Convention

Difference between Discretion and Decision making