हिंदी दिवस और हिंदी समाचार पाठन

हिंदी दिवस पर हिंदी न्यूज़ चेनल से एक अनुरोध :- कृप्या समाचार के प्रसारण में इतना अधिक भावुक न होए की समाचार के कई तरह के विश्लेषण के लिए श्रोताओं में समलोचात्मक बुद्धि न रह जाये / सही , शिष्ट  निर्भाव शब्द कोष का प्रयोग करें , और कहावतो , मुहावरों के अन्यथा प्रयोग न करें / वैचारिक शब्दों को ठोस ,घनाकार न करें की यह वैचारिक व्यक्तव्य का उपहास बन जाये / अंग्रेजी के मुकाबले हिंदी सभ्यता आप /तुम का अंतर रखनें वाली भाषा है / यहाँ अलंकार का प्रयोग कम होता है , समाचार को अधिक सजाने से अर्थ और मीमांसा में अंतर आ जायेगा / 

Popular posts from this blog

BODMAS Rule सैद्धांतिक दृष्टि से क्या है?

The STCW 2010 Manila (Scam) Convention

Difference between Discretion and Decision making