Wednesday, April 15, 2015

सिंगापोर गणित पहेली का समाधान

सिंगापोर वाली गणित पहेली का समाधान

मधु ने राम को जो संभव जानकारी दी है: मई , जून, जुलाई, अगस्त
मधु ने मोहन को जो संभव जानकारी दी है : 14, 15, 16, 17, 18, अथवा 19

अब हम राम और मोहन की बातचीत का पंक्ति दर पंक्ति विश्लेषण करेंगे
1) राम : मुझे नहीं पता है की मधु के जन्मदिवस की तारिख क्या है, लेकिन मैं यह कह सकता हूँ की मोहन अंदाज़ा नहीं लगा पाया है की मधु की जन्मदिवस तारिख क्या है।

           यानि की,  मात्र महीना की जानकारी पर राम तारिख का अंदाज़ा नहीं लगा पाया है। मगर यदि  मोहन भी मात्र दिनांक की जानकारी से महीने का अंदाज़ा नहीं ले पाया है तब फिर तो वह दिनांक कम-से-कम 18 अथवा 19 नहीं है, क्यों 18 दिनांक का ज़िक्र सिर्फ जून महीने में है, और 19 दिनांक का ज़िक्र सिर्फ मई महीने का ही है।(यदि मोहन को मधु न 18 अथवा 19 की दिनांक बताई होती तब तो मोहन महीना भी तुरंत ही आभास कर लेता। मगर ऐसा नहीं हुआ, जिसका मतलब की मधु ने मोहन को 18 अथवा 19 दिनांक नहीं बोली है)
    तो हम अंदाज़ा लेते है की मधु ने मोहन को सिर्फ 14, 15, 16 अथवा 17 ही बोली हैं, (18 और 19 नहीं)।

2) मोहन: ok. तब तो अब मैं अंदाज़ा लगा सकता हूँ की राम को मधु ने संभवतः कौन कौन सा महीना बताया होगा।
      यानि,मोहन को आभास हो गया है की राम मोहन के प्रति आश्वस्त है की मोहन तो मात्र दिनांक की आधार पर महीना का अंदाज़ा नहीं मिल सकता है। क्योंकि मई और जून ही ऐसे दो महीने है जिनको सिर्फ दिनांक के आधार पर भी जाना जा सकता है।
     इसका मतलब महीना मई अथवा जून नहीं है।
  तो मोहन को पता लग गया है की राम शायद जुलाई अथवा अगस्त महीने में से कोई जानकारी रखता है।

तो इसका मतलब की संभावित महीना जुलाई अथवा अगस्त ही है।
   
3)  राम: ओह! तब फिर तो अब मैं समझ की मधु के जन्मदिवस की तारीख क्या है।
       यदि राम को आभास हो गया है की मोहन को तारिख आश्वस्त है तो यानि की तारिख 14 की नहीं है, क्योंकि सिर्फ 14 की तारिख ही दोनों महीने जुलाई और अगस्त में आती है।
   तो इसका मतलब की तारिख 15, 16 या 17 ही है।
     तो अब यदि राम सिर्फ महीना की आश्वस्त ज्ञान, और दिनांक के संभावित ज्ञान (15, 16 अथवा 17) पर भी समझ लेता पूर्ण दिनांक-महीना क्या है, तो इसका मतलब की महीना जुलाई ही है और दिनाक 16 .
   क्योंकि यदि अगस्त महीना होता तो राम को अभी भी पूर्ण आश्वस्त नहीं मिलता ।इसलिए की अगस्त में अभी भी तो दिनांक संभव है (15 अथवा 17)।

निष्कर्ष: 16 जुलाई

सिंगापोर में बच्चों से पूछी गयी गणित की पहेली

सिंगापोर में हाल ही में पांचवी कक्षा के छात्रों से गणित विषय में एक ऐसा प्रश्न पूछ लिया गया जिसने न सिर्फ बच्चों को बल्कि दुनिया भर में वयस्कों को भी स्तब्ध कर दिया।
नीचे उस पहेली का हिंदी रूपांतरण लिखा है।

पूछी गयी गणित की पहेली:

राम और मोहन ने अभी हाल ही में मधु से दोस्ती करी है। वह दोनों मधु का जन्मदिवस जानना चाहते हैं। मधु उन दोनों को ही 10 संभावित तारीखों का समूह बताती है .
15 मई, 16 मई, 19 मई
17 जून, 18 जून
14 जुलाई, 16 जुलाई
14 अगस्त, 15 अगस्त, 17 अगस्त

फिर मधु जा कर बारी बारी से राम और मोहन को क्रमश: सिर्फ (और सिर्फ) महीना और तारिख बताती है।
राम और मोहन के बीच कुछ इस प्रकार बातचीत होती है की दोनों अपनी अपनी जानकारी न आदान प्रदान करते हुए भी मधु के जन्म दिवस का सटीक अंदाज़ा लगा लेते हैं। वह बातचीत कुछ इस प्रकार है

राम : मुझे नहीं पता है की मधु के जन्मदिवस की तारिख क्या है, लेकिन मैं यह कह सकता हूँ की मोहन अंदाज़ा नहीं लगा पाया है की मधु की जन्मदिवस तारिख क्या है।
मोहन: ok. तो अब मैं अंदाज़ा लगा सकता हूँ की राम को मधु ने संभवतः कौन कौन सा महीना बताया होगा।
राम: ओह! तब फिर तो अब मैं समझ गया की मधु के जन्मदिवस की तारीख क्या है।
मोहन: और मैं भी समझ गया।

🏢🏣🏥🏦🏫💒💒✈🌄🏬✈🔰🚎💈
क्या आप अंदाज़ा लगा कर बता सकते है की मधु की जन्मदिवस तारिख कौन सी है ??

Saturday, April 04, 2015

In the absence of a Policy, Its left to discretion -which is, Favourtism and Discrimination

जहाँ-जहां भी कोई अधिकारी किसी कार्य को अपने स्व:निर्णय(discretion) से करता है, समझ लीजिये की उस कार्य में पक्षपात अथवा भ्रष्टाचार किया जा रहा है।
   जहाँ नीति नहीं होती, वहां साधारण न्याय का बोध कर सकना संभव नहीं होता। और जहाँ साधारण न्याय स्व:प्रकट नहीं होता, वहां पारदर्शिता भी नहीं होती है। इसलिए वह कार्य पक्षपात और भ्रष्टाचार के लिए खुला द्वार होता है।

Where ever an official has freedom to excersie his discretion, it should be freely assumed that those acts are being done either under discrimination on someone, or under Corruption.
 
  Whenever there is a lack of policy on performance of any acts, the standard justice is not apparent to one and all in those decisions. When the Standard Justice is not readily known, there is ample of room for the Discrimination and the Corruption to happen.

My disappointment on the AAP's conduct on 28th March NC meet

Agreebly, Kejriwal and the AAP themselves failed to follow the course of Justice. Indeed Kejriwal himself can be heard having become a victim of Swaraj, Democratic Politics and unfathomable Tolerance !! This made it sound as if Kejriwal was prescribing those medicines to the world whose bad effects he himself was an example !!!
    I think Kejriwal should have taken help of professional lawyers even during the NC meet to produce his case before everyone. Instead we can hear a crying, emotional Kejriwal who claims to have shown tolerance and suffering in high doses.
   I would rather Kejriwal had taken this moment to showcase to the world how internal bickering and power-game could be resolved through the Jurisprudence available in his model of Swaraj and Democracy.
   Kejriwal himself has now failed to practise what he preaches. This makes it all very sad.

Deserving or Not deserving the Parliamentary Immunity

Can you name of the AAP MLAs or the Office Bearers who have Criminal Records, a police Chargesheet , etc on the condition that such record has not risen out of Political Protest or Demonstration.

The Administrative Theory upholds that person WHO HAS BEEN CHARGESHEETED should be taken off from those posts where he may influence the investigation, and the evidences.
   AND OFCOURSE, the entire idea has the delimitation to excluding those Chargesheeted on Political Protests and Demostrations. That means that Civil Society should also help to provide PARLIMENTARY IMMUNITY to those "criminally chargedsheeted" people whose crimes have risen in course of protest against the suppressive policies of the government of the day.
    AAP has so far not given ticket to anyone who is CHARGESHEETED while not being worthy of PARLIAMENTARY IMMUNITY by the Civil Society's Standards. There is NONE.

As far as I know
****ALL other parties have CRIMINAL historysheeted people, NOT WORTHY OF PARLIAMENTARY IMMUNITY by any Civil Society Standards.****

Message to Prashant Bhushan ji

[02/04 03:26] Manish Singh: dear Prashant ji,
just read your post "No. that is a misreading. ...."

I think that there is a Ideological Gap between You and Arvind ji at present.
BBC Hindi news line very craftly describes this gap when it says about expulsion of you and YY as जीत की राजनीति की जीत ।

I think we should put to Public Vote, a referendum, what *Should be*( the agreeable Moral, ethical, legal, or Utilitarian) approach to this dilemma.
I would like to make an attempt to accurately phrase the dilemma in a philosophical note :

Should a person who swears to erradicate Corruption, be allowed (or disallowed) Tactical Means , the so-called winning Strategies to defeat his rivals ??

Further, for a reminder, from the Vedic Epics of Ramayan , Lord Ram had used a tactical means to defeat and kill Raja Bali, in a fight between Bali and Sugreev.

In Mahabhrata, Krishn had designed lots of means to defeat the Kauravs, which included Killing of Bhishm, Dronacharya, Duryodhan ,etc.
_________________________________________________________________________

[02/04 03:27] Manish Singh: Let's put the matter with the help of another elaboration.
there are police cases registered even against Kejriwal, as per the records of the NGO Association for Democratic Reforms. In LS2014 The candidate with hightest criminal cases was Mr SP Udaykumar an AAP candidate from Kanyakumari.
   But we quite know and BEAR A CONSCIENCE that these cases deserve the PARLIMENTARY IMMUNITY as the way it should be. Their police cases have accured in way of a public interest protest and demonstration, not by a "political conspiracy and Vendetta Politics by the political opponents".

Within the AAP, the difference of opinion between AK and PB is about the THRESHOLD at which a candidate should be rejected by the AAP.
  PB is of the view that we will have to guided by the Public Image AND NOT JUST the police record antecedent since sometimes the wrong guys manage to pull the police not to register any cases, complaints against them.
    PB claims that certain such anti-social elements have come into the AAPs fold.

AK claims that he had made ample enquiries on those PB flagged nominations "through various resouces" and nothing was found.

The question before us, the Volunteers, is to lay down the Gold Standards Rule as to how a nomination shall be passed and failed.

I am of the view that PB proposed Public Image standard should NOT be used, as this will result into unjustified, discretionary actions of the AAP itself and may cause internal Corruption-of-sorts.
   However, answering to the possibility angle proposed by PB, we may proceed onto select a perceivably 'wrong' guy on the following two reasonings:
1) Our Internal Constitution and the Working Process must be strictly followed as pre-decided So to ensure that the suspect wrong guys do NOT usurp away the AAP party and its principles.
    I believe that our binding principles will themselves have the strength and ability to catch the wrong guy who has penetrated within our folds by giving any slips to the PAC or the Selection Committee. He still runs the risk of being caught even while he has successfully gotten with us.  The police administration and the independent CBI kinds AAP policies will ensure his culpability which he might have escaped until.
    Therefore, at the the PAC and the Selection Committee , a rational objective criteria should be used, not the Vogue Public Perception.

2) In the current political climate, we have more enemies than our friends. The rivals and the media will leave no stone unturned to expose any of the wrong guys who has yet managed to break ranks within us.

Friday, April 03, 2015

The Inquisition (प्रश्नकाल शिविर)

Inquisition (प्रश्नकाल शिविर) मध्यकालीन युग में अपविचार (heresy) को नियंत्रित और सजा देने का चर्च का बहुउपयोगी न्यायिक तरीका था।  ऐसा कोई विचारक जिसके विचार से समाज में चर्च द्वारा चलाये जा रहे तंत्र में बाधा आ जाये या फिर आ सकने की सम्भावना हो, उस विचार को heresy कहते हैं, और ऐसे विचारक को heretic.
   अन्धकार वाले उस युग में करीब करीब सभी वैज्ञानिक विचारधारा वालों को heretic माना गया था और उन्हें Inquisition के द्वारा या तो यातनाएं दी गयी अथवा मृत्यु दंड दिया गया।
   प्रजातंत्र आते आते तक ईशनिंदा (blasphemy) और अपविचार (heresy) को ही गैर कानूनी घोषित कर दिया गया था। अब स्वतंत्र अभिव्यक्ति का युग है।
   बरहाल, Inquisition का अभिप्राय नए युग में बदल कर प्रश्न शिविर के रूप में हो गया है। जहाँ अन्धकारयुक्त मध्ययुग में अपविचार समाज को अव्यवस्थित करने के दोषी प्रेरक माने जाते थे, आज वर्तमान में ऐसे ही कार्य दोष विचारों को षड्यंत्र या साज़िश (Conspiracy) कहा जाता है।
   षड्यंत्र हैं क्या ? षड्यंत्र ऐसा कार्य विधि है जिससे कुछ अव्यस्थित करने का उद्देश्य प्राप्त किया जाता है, बिना स्पष्ट आक्रमण करे। आक्रमण के दौरान विरोधी स्पष्ट होता है, वह सभी लोगो के द्वारा सीधा सीधा पहचाना जा सकता है, उसके तरीके तेवर सीधे हानि पहुचने के होते है।
   मगर षड्यंत्र में हानि पहुचाने वाला छिपा हुआ होता है। उसको सब कोई नहीं पहचान सकता है। वह भीतर घात की विधि प्रयोग करता है और मित्र के रूप में रह कर शत्रुता निभाता है। वह सीधा तारिका तेवर नहीं लगता है बल्कि भ्रम, अस्पष्टता, और कार्य बाधा लाता रहता है।
     मगर इन प्रकार की युद्ध शैली, षड्यंत्र, को पार लगाने का तरीका आज भी वही है। Inquisition. यानी प्रश्नकाल शिविर। जब षड्यंत्र के संदेह वाले पात्र से दीर्घकाल तक सबके समक्ष और सभी के द्वारा पूछताछ करवा कर तथ्यों और उनके प्रेरणा स्रोतों को खोजा जाता है।
    judicial enquiry (न्यायिक जांच) नए युग में Inquisition का ही एक दूसरा रूप है।
    25 सितम्बर 2003 को ब्रिटेन में लार्ड हट्टन (Lord Hutton) के द्वारा करी गयी Judicial Enquiry का BBC पर सीधा प्रसारण किया गया था। enquiry का विषय था ब्रिटेन के एक बड़े जैवयुद्ध के रक्षा वैज्ञानिक डॉक्टर केली की अबुझ मृत्यु का कारण पता लगाना। डॉक्टर केली ही वह जैवयुद्ध रक्षा वैज्ञानिक थे जिनकी रिपोर्ट की आधार बता कर कई सारे समाचार पत्रों ने इराक़ के पास रासायनिक हथियारों का जखेड़ा होने की खबरें प्रकाशित करी थी। बाद में इन्ही खबरों को आधार बता कर अमेरिका और ब्रिटेन ने इराक़ पर हमले किये थे।
      इसी तरह अमेरिका में एक Inquisition हिलेरी क्लिंटन पर भी चला था । 23 जनवरी 2013 को इसका सीधा प्रसारण कई सारे टीवी चैनलों पर किया गया था। हिलेरी क्लिंटन तब राष्ट्रपति ओबामा के प्रशासन में गृहमंत्री (सेक्रेटरी ऑफ़ स्टेट) थीं। लीबिया में बेंगज़हि शहर में अमेरिकी दूतावास पर हमले जिसमे की अमेरिकी राजदूत को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा, के तुरंत बाद हिलेरी की प्रतिक्रियाओं को संदेह की नज़रों से देखा गया था।

    Inquisition या फिर Judicial Enquiry (न्यायिक जांच) षड्यंत्रों का पर्दा फाश करने के लिए आज भी उपयोगी विधि हैं।J

Friday, March 27, 2015

वर्चस्व की जंग में सत्यधर्म से समझौता

कभी कभी वर्चस्व की लड़ाई ऐसे भी करी जाती है की मनुष्य सत्यधर्म का पालन तो करने की इच्छा रखता है, मगर एक सोची समझी रणनीति के अंतर्गत सत्यधर्म को तब तक अस्वीकृत करता रहता है जब तक की वह सत्यधर्म उसके लोगों के मुख वाणी से बोला नहीं जाता है।
   (भई, अगर दुश्मन के मुख से निकले सत्यधर्म को भी यदि आप स्वीकार कर लेंगे, उसका अनुसरण करने लगेंगे तो यह भी अपने आप में आपकी पराजय ही देखी जायेगी ।)
    वर्चस्व की लड़ाई में सत्यधर्म से यह समझौता भी आपने आप में असत्य और दुष्कृता को विजय बना देता हैं।

Thursday, March 26, 2015

तर्कों आधारित न्याय एक खुल्ला न्यौता है मूर्खता को सर्वव्यापक बनाने का

किसी भी राष्ट्र के लिए दुखद स्थिति तब आती है जब उसका पढ़ा लिखा बुद्धि जीवी वर्ग ही इतना अयोग्य हो जाता है की उचित और अनुचित के मध्य भेद करने लायक नहीं रह जाता है।
  राजनीति के प्रभाव में अधिक काल तक जीवन यापन करने से ऐसी परिस्थिति उत्पन्न होती है। जब कभी मतभदों के कारण न्याय लंबे समय तक सर्वज्ञात और सर्वमान्य होना बंद हो जाता है, तब न्याय नष्ट ही होने लग जाता है। नैतिकता भ्रमित होने लगती है, और वह भी कमज़ोर हो जाती है।  तब अंतःकरण कमज़ोर हो जाता है , क्योंकि मनुष्य आपसी प्रतिस्पर्धा, कूटनीति में एक दूसरे पर विजय पाने के लिए कुछ भी कर्म को विजय के धेय्य से उचित अथवा अनुचित ठहराने लगता है। कूटनीति के कर्म हमारे भीतर के ईश्वर के अंश को, हमारे अंतःकरण को ही नष्ट कर देते हैं। हमारा  मस्तिष्क तब सिर्फ तर्कों के आधार पर निर्णय करने लग जाता है। तर्क (logic) के आधार पर न्याय का लाभ यह है की तर्क (तकनीकी ज्ञान, टेक्नोलॉजी, इत्यादि) व्यक्तिगत से मान्यताओं और विश्वासों से मुक्त होते है, और इसलिए आसानी सर्वमान्य हो जाते है। मगर तर्कों के आधार पर न्याय करने का नुक्सान भी है। वह यह की तर्क में कुतर्क(sophistry), भ्रम और भ्रांतियों (logical fallacies) के लिए खूब अवसर होता है, जिसमे आसानी से एक समूची आबादी को ही धोखा दिया जा सकता है, मूर्ख बनाया जा सकता।
  तर्कों के अधिक प्रयोग से उत्पन्न हानि से बचने का समाधान यह है की अंतःकरण का भी प्रयोग किया जाये।
   अंतःकरण को अधिक विक्सित और कुशल बनाने में मानववादी विषय ज्ञान (humanities) बहोत सहायक होते है। इतिहास, भाषा ज्ञान, समाजशास्त्र, न्याय -कानून, साहित्य , कला (liberal arts), नागरिक शास्त्र, राजनीति विज्ञानं, प्रशासन विज्ञानं, दर्शन शास्त्र में प्रवीण व्यक्ति से अधिक अपेक्षा होती है की उसका अंतःकरण अधिक समग्र और विक्सित होगा। शायद वह मन-मस्तिष्क को संकीर्ण बना देने वाली कूटनीति से मुक्त होगा और अधिक विक्सित अंतःकरण की ध्वनि के कारण न्याय, सत्य करण कर सकने में अधिक् सक्षम होगा।

  Jagdish Prakash जी अब क्योंकि आप भी साहित्य और लेखन के  विषयों में प्रवीण है , इसलिए मेरी भी आपसे अपेक्षा है की शायद आप सत्य और न्याय का समर्थन करेंगे।

Friday, January 30, 2015

भाजपा और उनके दोमुंहे तर्क

भाजपाइयों ने एक साथ दोस्ती और दुश्मनी का ऐसा ताना बाना बुन है की आम आदमी अगर इनके तर्कों को बिना अपनी अंतरात्मा के प्रयोग से सुलझाये पकड़ेगा तब वह व्यक्तिगत जीवन में एक बुद्धिहीन मनुष्य बन कर विकसित होगा।
  अधिकांश भारतीयों को भी यही समस्या है। हमारी वर्तमान संस्कृति में तर्कों का एक विचित्र ताना बाना बंधा हुआ है जिसमे जन्म ले रहे नवजात बड़े होते होते अपने अन्दर की सृजन क्षमता को खो देते हैं, अंतर्मन को नष्ट कर देते हैं, माया और भ्रम के जाल में पल-बड़ कर उनके बौद्धिक गुण ख़त्म हो चुके होते हैं।
   इस विरोधाभासी ताने बाने के अस्तित्व को हम सभी पहचानते भी हैं। इस ताने बाने को कभी तो हम लोग अपनी गंगा जमुनी सभ्यता बुलाते हैं, कभी करोड़ों देवी दवताओं वाला प्राचीन धर्म, कभी हमारी धार्मिक, संस्कृति और राष्ट्रिय विविधता , और कभी हमारा विश्व का सबसे विशाल संविधान।
   जहाँ यह विरोधाभासी ताना बाना हमारी अस्तित्व बनाये रखने का सबसे बड़ा गुण हैं, वही यही ताना-बाना हमारी बुद्धि पर पड़ा सबसे बड़ा पर्दा है जो हमे दार्शनिक रूप में विकास करने में बाँधा बन रहा है।
   भाजपा के कुछ एक विरोधाभासी हथकंडों पर धयान दें।
रामदेव के पितांजलि पीठ के उत्पादों को प्रसारित करने के लिए कितनों ही विदेशी सामानों को यह लोग विरोध करते हैं। जैसे चीप्स,  टमाटर "सौस", बर्गर, 'चिकन', कोल्ड ड्रिंक्स ,वगैरह।
मगर सत्ता में आ कर यह लोग बाकायदा U Turn मार कर 100% FDI तक जाने में नहीं चूकते हैं।
   सत्ता के बाहर रह कर इन्होने परमाणु संधि का विरोध किया , जो की संसद भवन के अन्दर इसलिए था की कुछ तकनीकी विचार अस्पष्ट थे, मगर संसद भवन के बाहर इसलिए था की राष्ट्रिय सुरक्षा अमेरिका के हाथों भेंट चढ़ जाएगी !!!! यानि नियम "अ" और नियम "नहीं-अ" का खेल एक साथ खेला था। अमेरिका से अन्दर अन्दर दुश्मनी नहीं करने की मंशा थी, मगर बाहर से देश की जनता को अमेरिका को दुश्मन क्रिस्चियन और पश्चिमी देश दिखाना था जो की हमारी राष्ट्रिय सुरक्षा और संस्कृति का शत्रु है !!!
  यह नियम"अ" -संग- नियम "नहीं-अ" वाली कार्य व्यवस्था ने हमारे देश का बेडा गर्क किया है, मगर हम इसके इलाज के लिए अभी तक तैयार नहीं है, क्योंकि भावनात्मक तौर पर हमे अपनी इस बिमारी पर फक्र करना सिखाया गया है। तमाम विविधातों के मध्य में हमने अपने न्यायायिक मापदंड भी विविध बना दिए है, जो की नहीं होना चाहिए था।
  भाजपा के दूसरे कर्मकांडों को देखें। यह मुस्लिम विरोधी गुण रखती है। मगर साथ ही इसके शीर्ष नेताओं का मुस्लिम नताओं से वैवाहिक सम्बन्ध भी है। अब कर लीजिये इनसे तर्क-वितर्क। जनाब अब चित भी इनकी है, पट्ट भी इनकी है। आप तो सिर्फ पराजित ही होने वाले है की आखिर में भाजपाइयों की मंशा है क्या ?
   भाजपाई गोडसे को भी पूजते हैं और यदा-कदा अंतर्राष्ट्रीय सभ्य समाज के संस्कारों के दबाव में गाँधी पर भी फूल चढ़ा आते है। इस तरह वह कह लेते है की भई वह गाँधी जी को भी मानते हैं।
  भाजपाई मानते हैं की पैथोगोरस थ्योरम, वायुयान, शल्य चिकत्सा ,अंतरिक्ष अनुसन्धान,और नाभिकीय ऊर्जा का अन्वेषण प्राचीन  भारतियों ने किया था। मगर वह यह स्वीकारते हैं की आधुनिक काल में यह सब ज्ञान पश्चिमी अन्वेषणकर्ताओं से ही प्राप्त हुआ है। तो इस तरह यहाँ भी भाजपाई दोमुंह हैं।
  आवश्यकता के अनुसार यह भाजपाई स्त्री को दुर्गा और शक्ति बुला देते है,और फिर रामदेव जी अपने आश्रम से पुत्रजीवक दुग्ध भी बेच लेते हैं।
  गौर करें तो आधुनिककाल के भारत की समस्या भी यही है। जब चाहा तब हाथी गणेश भगवान् बन जाता है, और अन्य समय वह एक निहत्था,बेदम जानवर है जो बंधुआ जीवन जीता है और भोजन भी नहीं खा पाता है। शेर सिंह की भी यही व्यथा है। भारत पाखण्ड का देश इन्ही दो मुंहे विचारों के चलते बना है। यही वह विचार धारा है जिसने गंगा को सब के पापों से मुक्ति दिलाने वाली धारा से तब्दील करके एक नाला में बना दिया है। विडम्बना यह है की यही भाजपा गंगा की सफाई के नाम पर हमारे वोट बटोर रही है जो शायद वास्तव में गंगा विचारधारा के मैली होने का सूत्रधार है।
   भाजपा पाकिस्तान और चीन से दुश्मनी की बातें अपने अंधभक्तों के बीच में प्रसारित करते हैं, मगर सत्ता में आने पर वही पुराना तरीका- बात-चीत और दोस्ती में ही समस्याओं का समाधान तलाशते हैं।
   इसलिए भाजपाइयों के पास तर्क नहीं, कुतर्क(sophistry) होते हैं। कुछ लोग इसे ambiguity बुलाते है, जबकि वास्तविकता में इस तर्क विद्या को sophistry बुलाया जाता है। यह कैसे भी, किसी भी वाद विवाद में आपसे तो विजयी होने ही वाले है, क्योंकि यह दोनों ही नियम, नियम "अ" और नियम "नहीं-अ" का एक साथ पालन करते हैं। मौखिक तर्क वाद में यह कब तर्क रेखा को बदल देंगे ,आपको पता भी नहीं चलेगा और आप स्वयं ही पराजित हो जायेंगे। इनके तर्कों की रेखा सीधी नहीं है। हाँ लिखित या फिर ऑडियो-विडियो रिकॉर्ड हुए रूप में जब इनकी तर्क रेखा पृष्ट पर इन्ही के हाथों दर्ज रहती है तब इनके u-turn पकड़ना आसन हो जाता है।
  भाजपाइयों की जो कमी है, वही वर्तमान काल के भारतीयों के चिंतन की कमी है। हम लोग स्पष्ट और सीधे रेखा के तर्क चिंतन वाले लोग नहीं हैं। इसलिए मौकापरस्ती के आचरण यहाँ बार बार दिखने को मिलते है।

Monday, January 26, 2015

भाजपा की 'सकारात्मकता' है क्या?

भाजपाई जिसको सकारात्मकता बुलाते हैं, और जिसे भंग कर के नकारात्मकता फैलाने का आरोप वह आम आदमी पार्टी के अरविन्द केजरीवाल पर लगा रहे हैं, मैं उसे Reality Distortion Field (RDF) बुलाता हूँ।
  RDF को हिंदी रूपांतरित करके मैं उसे वास्तविकता वक्रता क्षेत्र बुलाता हूँ। RDF से सम्बंधित विकिपीडिया पेज का लिंक यहाँ सलंग्न है। इस प्रत्यय को लोकप्रिय कंप्यूटर कंपनी ऐप्पल कंप्यूटर के  कर्मचारी बड ट्रिब्ब्ल ने अपने ceo स्टीव जॉब के लिए प्रयोग किया था। बड ट्रिब्ब्ल का कहना था की उन्होंने यह शब्द टीवी के प्रचलित धारावाहिक स्टार वार्स में से लिया था। बड ट्रिब्ब्ल की व्याख्या में स्टीव जॉब अपने मोहित व्यवहार, व्यक्तित्व, बड़ बोली, झूठ और गुप्प, और बाज़ार विक्रय के माध्यम से अपने इर्द गिर्द एक वास्तविकता वक्रता क्षेत्र RDF बना लेते थे, और इस क्षेत्र के प्रभाव में आने वाले लोगों को लगता था की स्टीव के लिए कुछ भी असंभव नहीं है ,इसलिए वह स्टीव पर आँख मूँद कर, एक अंधभक्त की तरह भरोसा करते थे।
    मेरे ख़याल से RDF का विवरण वैदिक युग के वरणित "माया जाल" के विचार के समतुल्य है, जिसमे साधारण, चैतन्य हीन मानव झूठ और फरेब को पहचान सकने में असफल होने लगता है और फिर वह झूठ को सच, सच को झूठ मानने लगता है। RDF के उपयोग का उदहारण: व्यापारी वर्ग अपनी दूकान की शोभा और माहौल के द्वारा दूकान में आने वाले संभावित उपभोक्ता को प्रभावित करके समान का सौदा सुनिश्चित करते हैं(Marketing)। बड ट्रिब्ब्ल का कहना था की स्टीव जॉब का RDF बहोत ही प्रबल था जिसकी वजह से वह अपने कंप्यूटर उत्पादों को बाज़ार में सफल बना लेते थे।
  एक परोक्ष नज़र में समझें तो RDF हमारे मनस्थल पर एक झूठी सकारात्मकता का पर्दा बिछाती है जिसमे की वास्तविकता हमारी मस्तिष्क की दृष्टि से ओझल हो जाती है; आशाओं का एक विश्वास मन में आता है जिसमे इंसान मृग तृष्णा को भी आशा समझने की गलती कर देता है, और अपने जीवन की/देश की समस्याओं को सुलझाने की बजाये, किसी अंधभक्ति में आ कर उन समस्याओं को भुला देने को ही उचित समाधान समझने लगता है।
   मेरी समझ से मोदी और उनके प्रचार कंपनियों ने भी अशिक्षित, चैतन्यहीन भारतियों पर इसी प्रत्यय RDF का प्रयोग करके राजनैतिक सत्ता प्राप्त करी है। RDF के द्वारा निर्मित जन आस्था के माहौल को यह लोग सकारात्मकता बुला रहे हैं । और अरविन्द केजरीवाल के असलियत को मायाजाल के पर्दों में से नग्न कर सबके सामने बार बार ले आने के प्रयासों को यह लोग नकारात्मकता बुला रहे हैं। केजरीवाल के प्रयास इनके RDF को बार बार भेद दे रहे हैं जिससे जनमानस चैतन्यवान हो कर असलियत का संज्ञान कर ले रहे हैं। इससे मोदी का RDF असफल हो जा रहा है।
  इसलिए भाजपाई केजरीवाल से दुखी है और केजरीवाल पर झूठा होने का आरोप न लगा कर नकारात्मकता फैलाने का आरोप लगा रहे हैं।